Wednesday, November 22, 2017

भाजपा या कॉंग्रेस : फिर हाल किसकी कुंडली है ताकतवर

शनि पुनः 26 अक्तूबर को धनु राशि में आ गया है 2020 तक के लिए ! तो क्या होगा शनि के गोचर का बड़ी हस्तियों पर ! शुरू में हम विचार करेंगे 2 बड़े राजनीतिक दलों के विषय में ! जैमिनी विधि में राशियाँ ही देखती हैं और राशियों की दशा चलती है ! शनि धनु राशि में गोचर कर रहा है ! धनु मीन मिथुन और कन्या चारों द्विस्वभाव राशियाँ एक दूसरे को देखती हैं ! पर इस हिसाब से BJP और कॉंग्रेस दोनों पार्टियों की कुंडली में शनि महाराज लगभग केंद्र के तीन घरों को तथा जैमिनी दृष्टि से दोनो के सारे चारों केंद्र के घर एक दूसरे को देख रहे हैं ! हन गोचर में कॉंग्रेस की स्थिति थोड़ी ठीक है क्योंकि गोचर का शनि दशम दशमेश दोनों से सीधे सीधे संबंध बनाए हुए है ! पर दशा फिर हाल BJP की अच्छी है ! जैसा मैने पहले ही लिखा है की मार्च अप्रैल 2018 से BJP का समय कुछ मामलों में कठिन और संघर्षपूर्ण होने वाला है ! इस समय वह दशा संक्रमण काल में पहुँच तो चुकी परंतु अभी भी वह कमज़ोर ही सही राजयोग की परिधि मे है ! अप्रैल 2018 से BJP चंद्र की विनषोत्तरी दशा मे जाएगी जिसके विषय मे तथा कॉंग्रेस के आगे के भविष्य के और छेत्रीय दलों के विषय में विस्तार से अगली पोस्ट मे चर्चा होगी जिन्हे ख़तरा अब BJP से ज़्यादा कॉंग्रेस से दिख रहा है !


Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more.
BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 91-9621127233)

Wednesday, November 15, 2017

ज्योतिष् की 5 महत्वपूर्ण दशायें

4 अन्य महत्वपूर्ण बाते हैं ! ग्रहों का गाणांत या सर्पदेश क्राड में होना या पाप्कर्तरी में होना ! ग्रह कहीं मृत्यूभाग में तो नहीं है यह भी देखना अनिवार्य है !

ज्योतिषी यदि लग्न कुंडली और विनषोत्तरी दशा का ही प्रयोग कर रहा है है तो 10 प्रतिशत ही सहे परिणाम की अपेक्षा रखनी चाहिए ! एक लग्न लगभग  डेढ़  घंटे तक रहती है ! ऐसे मे उसी विनषोत्तरी दशा अंतरदशा की सैकड़ों कुंडलियों का भाग्य एक नहीं हो सकता ! ऐसे मे नवांस दशांस चतुरथांस देशक्राड सप्तांश द्वाड़शांस ये 6 वर्ग कुंडलियों का अध्ययन किए बिना कुछ भी बताया जाना कठिन है ! इसके अतिरिक्त ग्रहों की डिग्री , उनका षड़बल आदि देखना अनिवार्य है ! 4 अन्य महत्वपूर्ण बाते हैं ! ग्रहों का गाणांत या सर्पदेश क्राड में होना या पाप्कर्तरी में होना ! ग्रह कहीं मृत्यूभाग में तो नहीं है यह भी देखना अनिवार्य है !

ऐसे मे नवांस दशांस चतुरथांस देशक्राड सप्तांश द्वाड़शांस ये 6 वर्ग कुंडलियों का अध्ययन किए बिना कुछ भी बताया जाना कठिन है ! इसके अतिरिक्त ग्रहों की डिग्री , उनका षड़बल आदि देखना अनिवार्य है !
अपनी सारी सफल राजनीतिक भविष्यवाणियों में मैने अन्य सिद्धांतो के साथ ऊपर दिए गये सारे सिद्धांतों का प्रयोग किया है ! चाहे 2008 में आडवाणी जी के राजयोग समाप्त होने संबंधित भविष्यवाणी हो या भाजपा के दुबारे सत्ता में आने की भविष्यवाणी या अखिलेश यादव के 2012 में मुख्यमंत्री बनने की  या हाल में अमित शाह या योगी के संघर्षपूर्ण राजयोग की !

 इसके अलावा कुछ महत्वपूर्ण दशायें ! जिनको लगाए बिना मैने आज तक कोई कुंडली नहीं देखी ! ऊपर जितने भी सिद्धांत बतायें गये हैं यह तो लगाने अनिवार्य है ! बिना इनका प्रयोग किए कोई भी ज्योतिषी सफल भविष्यवाणी नहीं कर सकता ! अपनी सारी सफल राजनीतिक भविष्यवाणियों में मैने अन्य सिद्धांतो के साथ ऊपर दिए गये सारे सिद्धांतों का प्रयोग किया है ! चाहे 2008 में आडवाणी जी के राजयोग समाप्त होने संबंधित भविष्यवाणी हो या भाजपा के दुबारे सत्ता में आने की भविष्यवाणी या अखिलेश यादव के 2012 में मुख्यमंत्री बनने की  या हाल में अमित शाह या योगी के संघर्षपूर्ण राजयोग की ! इसके अलावा विवाह और संतान के संबंध में भविष्यवाणी करने के लिए कुछ विशेष सिद्धांत हैं जिन्हें मैं प्रयोग करता हूँ ! आने वाले समय में उनके विषय में बताऊँगा ! वे दशायें जिनका मैने उल्लेख किया है वे हैं !

योगिनी - सभी कुंडलियों पर लागू
चर दशा - सभी कुंडलियों पर लागू ! बिना इसके मैने पिछले 15 साल से कोई कुंडली नहीं देखी ! इसके अंदर भी स्थिर दशा मंडूक दशा आदि अन्य दशायें है !
द्विसाप्तपतीसम दशा -मेरी प्रिय दशा , संभवतः इसलिए भी कि मेरी स्वयं की कुंडली में भी यह लागू होती है ! इस दशा का प्रयोग उन्हीं कुंडलियों पर होता है जिनके या तो लग्न के स्वामी सप्तम भाव में हो या सप्तम का स्वामी लग्न मे हो !
षष्टिहयानीदशा - यदि सूर्य लग्न में हो

चतुर्शीथीसमदशा - दशमेश दशम भाव में हो  



Astrologer Sushil Kumaar Singh is an internationally acclaimed Vedic Astrologer, recognized for his accurate predictions.  His astrology services include Life Reading, Career Report, Detailed Kundali Matching, Match Making, Health Report, Business Report, Finance Report, Love Chemistry Report and more.
BOOK AQUICK ANSWER IN 2-3 HOURS OR A PHONE CONSULTATION WITH ASTROLOGER SUSHIL KUMAAR SINGH. FOR IMMEDIATE RESPONSE PLEASE FEEL FREE TO CONTACT HIM ON THE FOLLOWING NUMBERS (91-7985517269  WHAPP 91-9621127233) 

18 Planetary Combinations of delayed marriages

(Articles already published in astrology portal of Times of India and being reproduced here) There are many planetary combinations give...